बिहार, यूपी, झारखंड और खासकर राजस्थान में पैसे बनाने के लिए प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जिसके कारण युवा संगठन ने रेत माफिया, अवैध खनन माफिया, रोड़ी-पत्थर माफिया के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। हम आपस में दो दो पैसे जोड़कर कानून के शरण में जा रहे हैं, कभी एनजीटी तो कभी राज्य सरकार के सभी अधिकारियों का दरवाजा खटखटा रहे हैं लेकिन इसे देश का दुर्भाग्य कहिए कि पूरा सिस्टम माफियाओं के सामने घुटने के बल जा बैठा है। लेकिन हम थककर नहीं गिरे हैं क्योंकि हमें अपने देश से स्नेह है, किसी धन्ना सेठ और माफिया का बैंक बैलेंस भरने के लिए कुदरती संसाधनों का दुरुपयोग होते हम नहीं देख सकते। हमें लगातार धमकियां मिल रही है लेकिन उससे भी ज्यादा युवाओं का समर्थन और प्यार मिल रहा है। हम शुक्रगुजार हैं उन अधिकारियों का जो सामने न आकर बेइमान सिस्टम के खिलाफ हमारी आवाज को मजबूत कर रहे हैं। आइए हमारे संघर्ष के साथी बनिए।